5 मुखी रुद्राक्ष – 5 mukhi Rudraksha

पंचतत्व का समावेश, गुरु ग्रह को मज़बूती देने वाला अत्यंत सस्ता व सहज उपलब्ध, शिव का आत्म स्वरूप-पाँच मुखी रुद्राक्ष। पाँच मुखी रुद्राक्ष के तीन दाने एक साथ धारण करने चाहिए, ये पंचदेवों का भी प्रतिनिधि है।
मानसिक शांति देने वाला, नेगेटिव एनर्जी, डिपरेसन व तनाव को जड़ से ख़त्म करने वाला होता है, 5 मुखी रुद्राक्ष।
हमेशा ध्यान रहे की पाँच मुखी के तीन दाने एक साथ धारण करने चाहिए, अकेला पाँच मुखी निष्फल होता है।
पाँच मुखी रुद्राक्ष के फ़ायदे-

१. पचास की आयु पश्चात् आय या बचत घट रही हो, तो धारण करें।
२. घर में नियमित कलह की समाप्ति के लिए।
३.गुरु ग्रह की शांति के लिए ।
४.शुगर, किड्नी,पाचन सम्बन्धी रोगों में सुधार के लिए।
५.नकारात्मक ऊर्जा की समाप्ति के लिए।
६. डिपरेसन के रोगियों के लिए।

कौन लोग धारण करें –
१. अत्यधिक मोटे लोग।
२.तनाव व निरन्तर परेशान रहने वाले।
३.शुगर, किड्नी व पाचन सम्बन्धी रोगों से पीड़ित लोग
४.पचास की आयु पश्चात् किसी भी वजह से सम्पत्ति व बचत घट रही हो तो तीन दाने धारण करे।

अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ क्लिक करे…