Manglik Hona Dosh Nahi / मांगलिक होना विशिष्टता है, दोष नहीं

आमतौर पर मांगलिक शब्द का स्वर घरों में तब सुनाई देता है जब कन्याएं शादी के योग्य नजर आने लगती हैं। कन्या मांगलिक हो तो मांगलिक लड़का ढूंढना पड़ता है। कई बार कुण्डली मिलान पर बात आकर अटक जाती है। कभी लड़की मांगलिक निकलती है तो कभी लड़का। इसके चलते कई अच्छे संबंध बनते-बनते रह जाते हैं। जैसा कि लोगों के मुँह से सुनता हूँ कि मांगलिक दोष होता है और इसे कन्या में तो होना ही नहीं चाहिए। वर में हो तो चल जाता है लेकिन कन्या में मांगलिक दोष वैवाहिक जीवन को खराब कर देता है। मैं खुद भी इस थ्योरी को मानता हूँ। इसलिए नहीं कि मैं पुरातनपंथी हूँ बल्कि इसलिए कि मैं कल्पना कर सकता हूँ कि एक मांगलिक लड़की की एक गैर मांगलिक लड़के के साथ शादी कर दी जाए तो कन्या, वर पर हम तरह से हावी रहेगी। वैवाहिक जीवन तो खराब होना तय है। इसके विपरीत वर मांगलिक हो और कन्या मांगलिक न हो तो वर हावी रहेगा और वैवाहिक जीवन ठीक चलता रहेगा। हो सकता है भारतीय सभ्यता की यह सोच पुराने समय में तो ठीक रही होगी लेकिन आज के परिप्रेक्ष्य में देखा जाए तो पति और पत्नी, दोनों ही बराबरी के हकदार हैं। सो या तो दोनों ही मांगलिक हों या दोनों ही गैर मांगलिक। इसमें अर्थ इतना ही है कि आपस की हार्मोनी बनी रहे। क्या जरुरत है कि रिश्ते में एक पक्ष हावी रहे। हो सकता है कुण्डली मिलान करने वाले बहुत से ज्योतिषियों को इस हार्मोनी के बारे में जानकारी न हो लेकिन वे इस आधार पर बन रहे बेमेल जोड़े को जाने-अनजाने रोकने की कोशिश करते हैं। गंभीरता से कुण्डली मिलाने कराने वाले अधिकांश परिवारों में इस कारण तलाक के मामले भी बहुत कम होते हैं। कोई जातक, चाहे वह स्त्री हो या पुरुष, उसके मांगलिक होने का अर्थ है कि उसकी कुण्डली में मंगल अपनी प्रभावी स्थिति में है। शादी के लिए मंगल को जिन स्थानों पर देखा जाता है वे लग्न, चैथे, सातवें, आठवें और बारहवें भाव हैं। इनमें से केवल आठवां और बारहवां भाव सामान्य तौर पर खराब माना जाता है। सामान्य तौर का अर्थ है कि विशेष परिस्थितियों में इन स्थानों पर बैठा मंगल भी अच्छे परिणाम दे सकता है। लग्न का मंगल व्यक्ति की पर्सनैलिटी को बहुत अधिक तीक्ष्ण बना देता है, चैथे का मंगल जातक को कड़ी पारिवारिक पृष्ठभूमि देता है। सातवें स्थान का मंगल जातक को साथी या सहयोगी के प्रति कठोर बनाता है। आठवें और बारहवें स्थान का मंगल आयु और शारीरिक क्षमताओं को प्रभावित करता है। इन स्थानों पर बैठा मंगल यदि अच्छे प्रभाव में है तो जातक के व्यवहार में मंगल के अच्छे गुण आएंगे और खराब प्रभाव होने पर खराब गुण आएंगे। जैसे एक आला दर्जे का सर्जन भी मांगलिक हो सकता है और एक डाकू भी। यही स्थिति उच्च स्तरीय मैनेजर और सेना के अधिकारी में भी देखी जा सकती है जिसे कि कठोर निर्णय लेने हैं। मांगलिक व्यक्ति देखने में ललासी वाले मुख का, कठोर निर्णय लेने वाला, कठोर वचन बोलने वाला, लगातार काम करने वाला, विपरीत लिंग के प्रति कम आकर्षित होने वाला, प्लान बनाकर काम करने वाला, कठोर अनुशासन बनाने और उसे फाॅलो करने वाला, एक बार जिस काम में जुटे उसे अंत तक करने वाला, नए अनजाने कामें को शीघ्रता से हाथ में लेने वाला और लड़ाई से नहीं घबराने वाला होता है। इन्हीं विशेषताओं के कारण गैर मांगलिक व्यक्ति अधिक देर तक मांगलिक के सानिध्य में नहीं रह पाता। ऐसी विशेषताओं और इससे पैदा हुई बाध्यताओं के कारण एक मांगलिक व्यक्ति की गैर मांगलिक से बन नहीं पाती है। इस कारण दोनों को अलग-अलग करने की कोशिश की जाती है। सेना में प्रवेश लेने वाले अधिकांश लोग किसी न किसी कारण से मांगलिक असर वाले होते हैं। आपने भी गौर किया होगा कि आम जनता से सेना को अलग रखा जाता है। कमोबेश इसका कारण यह भी होता है कि जिस अनुशासन को सेना फाॅलो करती है उसे आम आदमी समझ नहीं सकता और आम आदमी की गतिविधियों को सेना का जवान समझ नहीं पाता।

तार्किक पहलू: मांगलिक लोगों की यह एक और बड़ी खासियत होती है कि उनकी किसी भी काम के प्रति बहुत तार्किक पहलू होता है। दुनियादारी या प्रेम में दो जमा दो पाँच या तीन हो सकते हैं लेकिन एक मांगलिक व्यक्ति के लिए हर सूरत में दो और दो चार ही होेंगे। प्यार में भी। इसी कारण किसी कुण्डली में मंगल और शुक्र की युति जातक को गणितज्ञ भी बना देती है। इसमें तार्किक और तार्किक के साथ भव्यता का भाव होता है। आपको ऐसे लोगों का समूह उच्च समाज में दिखाई दे सकता है। पुरुष स्त्रियों की तुलना में अधिक तार्किक होते हैं। इसी कारण उच्च वर्ग में शादियों की औसत आयु कम है। सौ प्रतिशत तार्किक पुरुषों और तर्क के साथ समझौता करने वाली स्त्रियों की अधिक दिनों तक बन नहीं पाती।